Homeबिज़नेसआशा बहनो का शोषण व रुका हुआ मानदेय को लेकर मुख्य चिकित्सा...

आशा बहनो का शोषण व रुका हुआ मानदेय को लेकर मुख्य चिकित्सा अधिकारी को ज्ञापन।

www.vijaybharat.in पर देखिए सभी राज्यों की खबरे।

आशा बहनो का शोषण एवं रुका हुआ मानदेय को लेकर मुख्य चिकित्सा अधिकारी को ज्ञापन।IMG 20220928 041503

Memorandum to the Chief Medical Officer regarding the exploitation of Asha sisters and withheld honorarium

जनपद मेरठ:- बतादे की आशा बहनो का 750 रु० नवम्बर व दिसम्बर 2021 का मानदेय का भुगतान अभी तक नहीं हुआ है तथा जनवरी 2022 से अब तक का कोई भुगतान नहीं किया गया आरोप है की आशा बहनो को 24 घण्टे काम कराया जा रहा है। उन पर कार्य करने का पूरा दबाव बनाया जा रहा है जिसमें उनका कार्य निम्न प्रकार है।

जच्चा बच्चा का प्रतिमाह टीकाकरण व देखभाल।

टी०बी० मरीजों का नियमित सर्वे।

कीड़ो की दवाई खिलाना व पोलियो की ड्यूटी।

उक्त कार्यो में आशाओ का कोई निश्चित भुगतान नहीं हो रहा है 2016 से टी०बी० के मरीजों को नियमित दवाई दी जा रही है परन्तु उसका भी मानदेय 2016 से अब तक नहीं किया गया है। आयुष्मान कार्ड के लिये आशा बहनो को 5 रु० प्रति कार्ड देने को कहा जा रहा है।

IMG 20220928 042334

परंतु आशा बहने इतने कम पैसे में कार्य करने में असमर्थ है वह अपना प्रतिमाह जो कार्य है वही करेंगी अन्यथा कम मानदेय वाला कार्य बिल्कुल नहीं करेंगी आशा बहनो के प्रत्येक कार्य का भुगतान माह की 10 तारीख तक किया जाना चाहिए।

जैसे डिलीवरी का पैसा H.R.P का भुगतान, टीकाकरण का पैसा, आशा बहनो को समय पर मिल जाना चाहिए।

सी०एच०सी० पर मरीज से 1100 व 2100 डिलीवरी पर लिए जाते है। जिसके तहत गाँवो मे आशाओ को लाभार्थी परेशान करते है की हमारा इतना पैसा सरकारी अस्पताल में खर्चा कर दिया। न देने की अवस्था मे आशा व मरीजो को परेशान किया जाता है।

उक्त विवरण पर आशाओ के हित के लिए ठोस कदम उठाने की कृपा करे। जबकि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी सरकार ने एक घोषणा की थी की आशा बहनो को 7000/-रु प्रीति माह दिया जाए।

 

WhatsApp Image 2022 08 01 at 5.33.03 PM
Vijay Bharat

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular