Wednesday, August 17, 2022
Advertisement
Homeशहर और राज्य#PmModi से पेंसिल-रबर महंगी होने पर 6 साल की Girl ने लिखा...

#PmModi से पेंसिल-रबर महंगी होने पर 6 साल की Girl ने लिखा शिकायती पत्र 6-year-old girl wrote a complaint letter to PmModi when pencil-rubber is expensive

विजय भारत न्यूज़ जो कहूंगा सच कहूंगा।

#PmModi से पेंसिल-रबर महंगी होने पर 6 साल की बच्ची ने लिखा शिकायती पत्र, 6-year-old girl wrote a complaint letter to PmModi when pencil-rubber is expensivePicsart 22 08 02 09 08 23 637

बतादे की यह खबर सोशल मिडिया पर तेजी से हो रही है। वायरल जिसमे 6 साल की बच्ची Pm मोदी जी से शिकायत कर रही है। एक पत्र लिखकर।

हाल में ही GST की दरों में हुए बदलाव के बाद देश में कई चीजें महंगी हो गई हैं। मंहगाई का झटका हर इंसान को लग रहा है। इससे बच्चे भी अछूते नहीं है। बच्चों की पढ़ाई लिखाई से संबंधित चीजों पर GST लगने से पेसिंल और रबड़ भी मंहगी हो गई है।

बतादे उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिले में छिबरामऊ की रहने वाली एक मासूम बच्ची ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इसकी शिकायत की है। पहली कक्षा में पढ़ने वाली छह साल की बच्ची ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर महंगाई के कारण हो रही कठिनाई के बारे में बताया है।

छिबरामऊ कस्बे की रहने वाली लड़की ने अपने पत्र में लिखा है। मेरा नाम कृति दुबे है। मैं कक्षा 1 में पढ़ती हूं। मोदीजी, आपने बहुत अधिक मूल्यवृद्धि की है। यहां तक कि मेरी पेंसिल और रबर भी महंगी हो गयी और मैगी की कीमत भी बढ़ा दी गई है। अब मेरी मां पेंसिल मांगने पर मुझे मारती है। मैं क्या करूं? दूसरे बच्चे मेरी पेंसिल चुरा लेते है।

हिंदी में लिखा पत्र सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो गया है। बच्ची के पिता विशाल दुबे पेशे से वकील हैं. उन्होंने कहा कि यह पत्र मेरी बेटी की मन की बात है। वह हाल ही में उस समय नाराज हो गई, जब उसकी मां ने उसे स्कूल में पेंसिल खो जाने पर डांटा था। वहीं, छिबरामऊ के एसडीएम अशोक कुमार ने कहा कि उन्हें इस छोटी बच्ची के पत्र के बारे में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से पता चला। उन्होंने कहा कि मैं किसी भी तरह से बच्ची की मदद करने के लिए तैयार हूं। और यह सुनिश्चित करने की पूरी कोशिश करूंगा कि उसका पत्र संबंधित अधिकारियों तक पहुंचे।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular